Top Unicorn Startups of India
1

हमारे युवा उद्यमियों और स्टार्टअप लीडर ने व्यवसाय में खुद को साबित किया है ।
तो आइए आप सभी को इंडिया के टॉप यूनिकॉर्न स्टार्टअप से परिचित कराते हैं ।

हर क्षेत्र के विकास और देश के समग्र विकास के लिए एक पहलू बनाने के साथ भारत ने खुद को साबित कर दिया है।

स्टार्टअप जिन्होंने वर्ष 2015 में प्रवेश किया

 

जोमाटो :इसकी स्थापना 2008 में दीपिंदर गोयल ने की थी। जोमाटो अपने ग्राहकों को फूड डिलीवर करता है। 2015 में, यह भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब का सदस्य बन गया। इसे शुरुआत में फूडीबाय के रूप में शुरू किया गया था। जोमाटो की मंथली रेवेन्यू 100 मिलियन डॉलर तक पहुंच गई है।

क्विकर :क्विकर इसकी स्थापना 2008 में प्रणय चुलेट द्वारा की गई थी, क्विकर एक बेंगलुरू स्थित ऑनलाइन वर्गीकृत बाज़ार है। 2015 में, यह भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब का सदस्य बन गया। यह फर्म 1200 भारतीय शहरों में सक्रिय थी और एक समय में 30 मिलियन मासिक अद्वितीय दौरे प्राप्त करती थी।

पेटीएम :इसकी स्थापना 2010 में विजय शेखर शर्मा द्वारा की गई थी, पेटीएम एक दिल्ली-एनसीआर आधारित फिनटेक डेकॉर्न है जो अपने ग्राहकों को भुगतान सेवाएं प्रदान करता है। 2015 में, यह भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब का सदस्य बन गया। यह बिजली के बिल, गैस बिल साथ ही साथ विभिन्न पोर्टलों की रिचार्जिंग और बिल भुगतान प्रदान करती है।

ओला कैब्स :ओला कैब्स, एक भारतीय राइडशेयरिंग कंपनी है। जो कई सेवाएं प्रदान करती है जिनमें राइड सर्विस हेलिंग, टैक्सी और फूड डिलीवरी शामिल हैं। यह 2010 में भाविश अग्रवाल और अंकित भाटी द्वारा स्थापित किया गया था, कंपनी बेंगलुरु, भारत में स्थापित है। 2015 में, यह यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब का सदस्य बन गया। अक्टूबर 2019 तक, ओला का मूल्य लगभग ₹ 7 खरब था।

इन्फोएज :इसकी स्थापना 1995 में संजीव बिखचंदानी द्वारा की गई थी, इंफोएज एक दिल्ली-एनसीआर आधारित डिस्कवरी प्लेटफॉर्म है जो नौकरी उन्मुख प्लेटफॉर्म चलाता है जैसे कि नौकरी डॉट कॉम और जीवनसथी डॉट कॉम । इसके पास 99 acres.com और Shiksha.com जैसी कंपनियां भी हैं। 2015 में, यह भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब का सदस्य बन गया।

स्टार्टअप जिन्होंने वर्ष 2016 में प्रवेश किया

 

हाइक मैसेंजर :हाइक को 2012 में कविन भारती मित्तल ने बनाया था। अगस्त 2016 में, यह भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब का सदस्य बन गया। हाइक ऑफलाइन काम करता था, और इसमें मल्टी-प्लेटफॉर्म सपोर्ट था । इसके उपयोगकर्ता एक-दूसरे को टेक्स्ट संदेश के अलावा ऑडियो, फाइल, वॉइस संदेश, वीडियो तथा अपनी स्थिति भेज सकते थे।

शॉपक्लूज :शॉपक्लूज दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में स्थित एक ईकॉमर्स स्टार्टअप है जिसे 2011 में संदीप अग्रवाल, संजय सेठी और राधिका अग्रवाल द्वारा बनाया गया था। 2016 में, यह भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब का सदस्य बन गया। शॉपक्लूज ने 100 मिलियन डॉलर के बॉन्ड जारी किए। यह पूरे देश में 32,000 से अधिक पिन कोड डिलीवर करता है।

मेक माई ट्रिप :मेक माई ट्रिप एक भारतीय ऑनलाइन ट्रैवल एजेंसी है । इसकी स्थापना 2000 में डीप कालरा, कीर जोशी और राजेश मागोव ने की थी। मेक माय ट्रिप एयर टिकट, कस्टमाइज्ड हॉलिडे पैकेज, होटल बुकिंग, रेलवे टिकट मुहैया कराता है । 2016 में, यह भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब का सदस्य बन गया। यह दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में स्थित है।

स्टार्टअप जिन्होंने वर्ष 2017 में प्रवेश किया

रिन्यू पॉवर :न्यू पॉवर दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में स्थित एक एनर्जीटेक स्टार्टअप है, जिसे 2011 में सुमंत सिन्हा द्वारा स्थापित किया गया था। अप्रैल 2017 में, यह भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में शामिल हुआ । रिन्यू एनर्जी ने $450 मिलियन के बांड जारी किए। उपयोगिता-पैमाने पर पवन, सौर और जलवायू ऊर्जा परियोजनाओं का विकास, निर्माण, स्वामित्व और संचालन कंपनी द्वारा किया जाता है।

स्टार्टअप जिन्होंने वर्ष 2018 में प्रवेश किया

बाईजूस:बायजूस एक भारतीय बहुराष्ट्रीय शैक्षिक प्रौद्योगिकी कंपनी है, जिसका मुख्यालय बैंगलोर, में है। इसकी स्थापना 2011 में बायजू रवींद्रन और दिव्या गोकुलनाथ ने की थी । बायजूस दुनिया की सबसे बड़ी एजुकेशन टेक्नोलॉजी कंपनी है। बायजूस जून 2018 में यूनीकॉर्न क्लब में शामिल हुआ। जून 2021 तक, बायजू की कीमत 1000 Rs आंकी गई है। बायजूस जो कक्षा 4-12 और JEE, NEET, CAT, IAS, और GMAT जैसी परीक्षाओं में छात्रों के लिए लर्निंग प्रोग्राम प्रदान करता है।

बिलडेस्क :बिलडेस्क मुंबई में स्थित एक भारतीय ऑनलाइन भुगतान गेटवे कंपनी है। इसकी स्थापना 2000 में एम एन श्रीनिवास , कार्तिक गणपती , अजय कौशल ने की थी। बिलडेस्क मार्च 2018 में यूनीकॉर्न क्लब में शामिल हुआ। कंपनी अपने ग्राहकों के लिए एक ऑनलाइन भुगतान मंच प्रदान करती है जो बैंकिंग और मर्चेंट वेबसाइट लेनदेन को सक्षम बनाता है। 2021 में, कंपनी को PayU द्वारा अधिग्रहित किया गया था।

ओयो :ओयों रूम्स के फाउंडर रितेश अग्रवाल ने सिर्फ 19 साल की उम्र में ओयो रूम्स की शुरुआत की थी और आज वे देश के सबसे युवा बिलिनेयर की लिस्ट में शामिल हैं। रितेश अग्रवाल की ओयो रूम्स देश की कामयाब इंटरनेट कंपनियों की लिस्ट में शामिल है । ओयों रूम्स अप्रैल 2018 में यूनीकॉर्न क्लब में शामिल हुआ। 2021 तक ओयों रूम्स की कीमत 8,000 करोड़ रु आँकी गई है। वो लोगों को आसानी से रूम्स उपबलब्ध करा रहा है ।

फोनपे :फोनपे एक डिजिटल पेमेंट सेवा प्रदान करने वाली एक कंपनी है, जिसका मुख्यालय बैंगलोर, भारत में स्थित है। इसकी स्थापना दिसम्बर 2015 में समीर निगम, राहुल चारी और बुर्जिन इंजीनियर ने की थी। यह एक एप है। फोनपे अप्रैल 2018 में यूनीकॉर्न क्लब में शामिल हुआ। इसका इस्तेमाल कर लोग सरलता से पैसा भेजने या प्राप्त करने के लिए करते हैं।

स्विग्गी :स्विग्गी भारत की सबसे बड़ी और सबसे अधिक मूल्यवान ऑन्लाइन खाना ऑर्डर करने के लिए और 2014 में स्थापित डिलीवरी प्लैटफॉर्म है स्विगी का मुख्यालय बैंगलोर,में है। इसकी शुरुवात श्री हर्ष ,नंदन रेड्डी और राहुल जैमिनी ने किया। स्विग्गी जून 2018 में यूनीकॉर्न क्लब में शामिल हुआ। इसकी कुल आय 2019 तक 875 करोड़ रु आँकी गई है।

पेटीएम मॉल :पेटीएम मॉल नोएडा स्थित ई-कॉमर्स इकाई है। इसकी स्थपना 2010 में विजय शेखर शर्मा ने की। पेटीएम मॉल मई 2108 में यूनीकॉर्न क्लब में शामिल हुआ। इसकी कुल आय 2020 – 2021 तक 4 लाख करोड़ आँकी गई है। यह एक ऑनलइन शॉपिंग ऐप है, जिसमे आप हर तरह के प्रोडक्ट को घर बैठे खरीद सकते हैं ।

फ्रेशवर्क्स :फ्रेशवर्क्स की स्थापना 2010 में गिरीश मथरुबूथम और शान कृष्णसामी ने की । यह चेन्नई में स्थित है। फ्रेशवर्क्स जुलाई 2018 में यूनीकॉर्न क्लब में शामिल हुआ। इसकी कुल आय 2020- 2021 तक 95000 करोड़ आँकी गई है । फ्रेशवर्क्स ऐसी तकनीक बनाता है जो सभी के लिए काम करती है, जिससे आईटी, ग्राहक सेवा, बिक्री,इन सभी के लिए फ्रेशवर्क्स काम करता है ।

पॉलिसीबाजार :पॉलिसीबाजार गुड़गांव में स्थित एक भारतीय बीमा प्रौद्योगिकी कंपनी है। कंपनी की स्थापना जून 2008 में यशीश दहिया, आलोक बंसल और अवनीश निर्जर ने की थी। मार्च 2018 में यह में यूनीकॉर्न क्लब में शामिल हुई। इसकी कुल आय 2020 तक 150 करोड़ है। पॉलिसीबाजा पर उपयोगकर्ता बीमा कंपनियों की बीमा पॉलिसियों और अन्य वित्तीय सेवाओं की तुलना कर सकते हैं।

रिविगो :रिविगो एक ऐसी कंपनी है जो हाई-स्पीड ब्रॉडबैंड सेवाएं प्रदान करके ग्रामीण क्षेत्रों में अविश्वसनीय और धीमे इंटरनेट कनेक्शन के मुद्दे को हल करती है। इसकी स्थापना 2017 में दीपक गर्ग और ग़ज़ल कालरा द्वारा की गई थी, और अक्टूबर 2018 तक, यूनीकॉर्न क्लब में शामिल हुई। । उनका मुख्य ध्यान भारत पर रहा है, लेकिन उन्होंने नाइजीरिया, केन्या और जिम्बाब्वे सहित कई अन्य देशों में भी संचालन शुरू कर दिया है।

उड़ान :उड़ान कंपनी की स्थापना 2016 में आमोद मालवीय, वैभव गुप्ता और सुजीत कुमार ने की थी। उड़ान एक भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप है जो फरवरी 2018 में एक गेंडा बन गया। उड़ान भारतीय, ग्रामीण छात्रों के लिए शिक्षा तक सस्ती पहुंच प्रदान करता है। वे ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह के पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं।

स्टार्टअप जिन्होंने वर्ष 2019 में प्रवेश किया

 

डेल्हीवरी :डेल्हीवरी कूरियर एक स्टार्टअप है जो भारत के चुनिंदा शहरों में डोरस्टेप और होम डिलीवरी सेवाएं प्रदान करता है। स्टार्टअप की स्थापना साहिल बरुआ (सह-संस्थापक और सीईओ), मोहित टंडन (सीटीओ) और अजित पाई (सीओओ) ने की थी। स्टार्टअप अक्टूबर 2018 में एक भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप बन गया, जब उसने सीरीज सी फंडिंग में 200 मिलियन डॉलर हासिल किए।

ड्रीम स्पोर्ट्स :ड्रीम स्पोर्ट्स की स्थापना 2017 में अनीश और दिव्या गोयल ने की थी। ड्रीम स्पोर्ट्स 15 वर्षों से अधिक एथलीट के प्रदर्शन में सुधार की समस्या को हल कर रहा है और अक्टूबर 2018 में एक भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप बन गया है। ड्रीम स्पोर्ट्स एक वैश्विक स्पोर्ट्स टेक्नोलॉजी कंपनी है जो एथलीटों को प्रदर्शन में सुधार करने में मदद करती है।

द्रुवा:जसप्रीत सिंह ने 2008 में ड्रुवा की स्थापना की। द्रुवा ने जून 2019 में भारतीय स्टार्टअप यूनिकॉर्न क्लब में प्रवेश किया। द्रुवा एक क्लाउड-आधारित फ़ाइल सुरक्षा कंपनी है जो बैंकिंग और सरकार सहित विभिन्न उद्योगों के लिए समाधान प्रदान करती है। वे एंटरप्राइज़ फ़ाइल साझाकरण और सहयोग सेवाएँ, सुरक्षित दस्तावेज़ संग्रहण, त्वरित डिजिटल पहचान सुरक्षा प्रदान करते हैं।

लेंसकार्ट :लेंसकार्ट की स्थापना माइक्रोसॉफ्ट के पूर्व कर्मचारी पीयूष बंसल ने 2010 में अमित चौधरी और सुमीत कपाही के साथ मिलकर की थी । यह अप्रैल 2019 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब क्लब में शामिल हुआ । लेंसकार्ट भारतीय उपभोक्ताओं के लिए अपने घरों में आराम से ऑप्टिकल उत्पाद खरीदने के लिए एक प्रमुख ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है।

ओला इलेक्ट्रिक:ओला इलेक्ट्रिक एक राइड-शेयरिंग सेवा है जिसकी स्थापना भाविश अग्रवाल ने 2014 में की थी और तब से यह भारत में सबसे लोकप्रिय परिवहन विकल्पों में से एक बन गई है। अक्टूबर 2018 तक, कंपनी भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप में शामिल हुई। उसने वित्त पोषण में कम से कम 1 अरब डॉलर जुटाए थे।

बिगबास्केट :बिगबास्केट कंपनी की स्थापना तीन व्यक्तियों – अंकित नागोरी (सीएमओ), शरद शर्मा (वीपी उत्पाद) और सौरभ कृष्णमूर्ति (सीटीओ) द्वारा की गई है। कंपनी 2019 के फरवरी में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप में शामिल हो गई। बिगबास्केट भारत का सबसे बड़ा ऑनलाइन भोजन और किराना स्टोर है जो ग्राहकों के दरवाजे तक अपने उत्पादों की डिलीवरी करता है।

आईसीर्टिस:2009 में पुणे में प्रौद्योगिकी के दिग्गज समीर बोदास और मनीष दर्डा द्वारा स्थापित किया गया था । कंपनी ने जुलाई 2019 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में प्रवेश किया। आईसीर्टिस एक निजी स्वामित्व वाली सॉफ्टवेयर कंपनी है जो एक सॉफ्टवेयर सर्विस मॉडल का उपयोग करके उद्यम व्यवसायों को अनुबंध प्रबंधन सॉफ्टवेयर प्रदान करती है।

स्टार्टअप जिन्होंने वर्ष 2020 में प्रवेश किया

 

कार 24:2015 में विक्रम चोपड़ा, गजेंद्र जांगिड़, रुचित अग्रवाल और मेहुल अग्रवाल द्वारा स्थापित किया गया था। कार 24 एक ऑनलाइन मार्केटप्लेस है, जो ऑटोमोबाइल और बाइक सहित पहले इस्तेमाल किए गए वाहनों की खरीद बिक्री करता है । वर्ष 2020 में भारत में एक यूनिकॉर्न स्टार्टअप बन गया है। इसने 2019 में उपभोक्ता ऋण बाजार में प्रवेश करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक से NBFC लाइसेंस भी प्राप्त किया।

नायका:नायका एक भारतीय ई-कॉमर्स कंपनी है, जिसकी स्थापना 2012 में फाल्गुनी नायर ने की थी और इसका मुख्यालय मुंबई में है। वर्ष 2020 में भारत में एक यूनिकॉर्न स्टार्टअप बन गया है। यह वेबसाइट, मोबाइल ऐप और 76 ऑफलाइन स्टोर पर ब्यूटी, वेलनेस और फैशन उत्पाद बेचती है। 2020 तक, इसका मूल्य ₹85 बिलियन था।

फर्स्टक्राई:फर्स्टक्राई एक भारतीय ई-कॉमर्स कंपनी है, जिसका मुख्यालय पुणे में है। 2010 में लॉन्च की गई कंपनी ने शुरुआत में बेबी प्रोडक्ट्स रिटेलिंग पर ध्यान केंद्रित किया। जनवरी 2020 में, कंपनी के पूरे भारत में 380 से अधिक स्टोर थे। फर्स्टक्राई ने मई 2019 में श्रीनगर में अपना पहला आउटलेट खोला। फर्स्टक्राई का प्राथमिक उद्देश्य गुणवत्तापूर्ण उत्पादों और सेवाओं की पेशकश करना है।

ग्लैन्स :ग्लैन्स की स्थापना 2019 में नवीन तिवारी, अभय सिंघल, मोहित सक्सेना और पीयूष शाह द्वारा किया गया । वर्ष 2020 में भारत में एक यूनिकॉर्न स्टार्टअप बन गया है। सॉफ्टवेयर विभिन्न एंड्रॉइड स्मार्टफोन उपकरणों, जैसे सैमसंग, श्याओमी, रियलमी आदि पर पहले से इंस्टॉल आता है। यह एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आधारित सॉफ्टवेयर कंपनी है, जो स्मार्टफोन की लॉक स्क्रीन पर पर्सनलाइज्ड कंटेंट डिलीवर करती है।

पाइन लैब्स :पाइन लैब्स एक भारतीय मर्चेंट प्लेटफॉर्म कंपनी है जो 1998 में स्थापित वित्तपोषण और अंतिम मील खुदरा लेनदेन प्रौद्योगिकी प्रदान करती है। यह वर्ष 2020 में भारत में एक यूनिकॉर्न स्टार्टअप बन गया , जिसका मूल्यांकन यूएस $ 5 बिलियन से अधिक है। यह एक मर्चेंट प्लेटफॉर्म प्रदान करता है और पॉइंट ऑफ सेल मशीनों के लिए सॉफ्टवेयर बनाता है।

पोस्टमैन :पोस्टमैन की स्थापना 2014 में अभिनव अस्थाना, अभिजीत केन और अंकित सोबती ने की थी। पोस्टमैन डेवलपर्स के लिए अपने एपीआई को डिजाइन, निर्माण, परीक्षण करने के लिए एक एपीआई प्लेटफॉर्म है। यह वर्ष 2020 में भारत में यूनिकॉर्न स्टार्टअप बन गया । अप्रैल 2022 तक, पोस्टमैन रिपोर्ट में 20 मिलियन से अधिक पंजीकृत उपयोगकर्ता और 75,000 एपीआई हैं।

अनएकैडेमी :अनएकैडेमी एक भारतीय ऑनलाइन शिक्षा प्रौद्योगिकी कंपनी है जो बैंगलोर में स्थित है। यह कम्पनी गौरव मुंजाल, रोमन सैनी और हेमेश सिंह द्वारा 2015 में स्थापित किया गया था। यह मई 2020 में यूनीकॉर्न क्लब में शामिल हुआ। कम्पनी के पास 18,000 शिक्षक का एक नेटवर्क है, और कई पेशेवर और शैक्षिक प्रवेश परीक्षा के लिए तैयारी सामग्री प्रदान करता है।

रेजरपे :रेजरपे सॉफ्टवेयर की स्थापना 2013 में हरशील माथुर ने की । रेजरपे के अनुसार, यह 42 स्टार्टअप्स में से 34 के लिए भुगतान का अधिकार देता है, यह वर्ष 2020 में भारत में यूनिकॉर्न स्टार्टअप बन गया। यह पेमेंट गेटवे के रूप में शुरू हुआ था, लेकिन अब इसका विस्तार एसएमई पेरोल प्रबंधन, बैंकिंग, उधार और भुगतान जैसी सेवाएं प्रदान करने के लिए किया गया है।

डेलीहंट :डेलीहंट बैंगलोर, भारत में स्थित एक भारतीय सामग्री और समाचार एग्रीगेटर एप्लिकेशन है जो कई सामग्री प्रदाताओं से 14 भारतीय भाषाओं में स्थानीय भाषा सामग्री प्रदान करता है। वीरू सह-संस्थापक उमंग बेदी के साथ डेलीहंट के संस्थापक के रूप में कार्यरत हैं। यह वर्ष 2020 में भारत में यूनिकॉर्न स्टार्टअप में शामिल हुआ। यह लोगों को समाचार सरल भाषा में पहुँचाता है ।

जनिये नए उद्यमी के रूप में विकसित होने वाले कारक हैं- https://www.wext.in/factors-influencing-new-enterprise-growth/

स्टार्टअप जिन्होंने वर्ष 2021 में प्रवेश किया

 

मीशो: मीशो छोटे और मध्यम आकार के व्यवसायों के लिए एक ऑनलान नेटवर्क है, जो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से अपने आइटम को बेचता है। इसकी स्थापना 2015 में विदित आत्रे और संजीव बरनवाल ने की थी। यह अप्रैल 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप गई। मीशो एक ऐसा वातावरण स्थापित करना चाहता है जहां कोई भी बिना पैसे के व्यवसाय शुरू कर सके।

फ़ार्मेसी :फ़ार्मेसी एक हेल्थ-टेक फर्म है जो अपने प्लेटफॉर्म पर ऑनलाइन फ़ार्मेसी प्रदान करती है। इसकी स्थापना 2015 में धर्मिल शेठ, डॉ धवल शाह और मिखिल इन्नानी ने की थी। मई 2021 में यह यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स के क्लब में शामिल हो गया। एक कंज्यूमर हेल्थकेयर “सुपर ऐप” है जो उपभोक्ताओं को ऑन-डिमांड, होम डिलीवरी सेवा प्रदान करवाती है ।

शेयरचैट:शेयरचैट बेंगलुरु में स्थित एक सोशल मीडिया स्टार्टअप है। जिसे 2015 में अंकुश सचदेवा, भानु सिंह और फरीद अहसन द्वारा स्थापित किया गया था। अप्रैल 2021 में, यह भारत में यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स की सूची में शामिल हो गया। वर्तमान में, शेयर चैट भारत की मूल्यवान सोशल नेटवर्किंग साइट है।

ग्रो:ग्रो मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से म्यूचुअल फंड और निवेश के लिए योजनाएं प्रदान करता है। ग्रो की स्थापना 2017 में ललित केशरे, हर्ष जैन, नीरज सिंह और ईशान बंसल ने की थी। यह जुलाई 2021 में यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में शामिल हो गया। उपयोगकर्ता, म्यूचुअल फंड, ईटीएफ, आईपीओ और स्टॉक में निवेश कर सकते हैं और पैसा कमा सकते हैं।

इन्नोवाच्सर :इन्नोवाच्सर दिल्ली-एनसीआर में स्थित हेल्थटेक फर्म है, जिसकी स्थापना 2014 में कनव हसीजा, अभिनव शशांक और संदीप गुप्ता ने की थी। इनोवैकर की मदद से, स्वास्थ्य सेवा प्रदाता कम कीमत पर उच्च गुणवत्ता उपचार प्रदान करते हैं। जून 2021 में यह यूनिकॉर्न स्टार्टअप बन गया है। यह अपने ग्राहकों और सहयोगियों को इंटरऑपरेबल ऐप बनाने में सक्षम बनाता है।

इंफ्रा.मार्केट :इंफ्रा.मार्केट रियल एस्टेट और भवन निर्माण की आपूर्ति खरीदने के लिए एक बी2बी ऑनलाइन मार्केटप्लेस है। यह 2016 में आदित्य शारदा और सौविक सेनगुप्ता द्वारा स्थापित किया गया था। यह जुलाई 2022 में यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हो गया। ऑन-साइट डिलीवरी तक खरीदारी, ट्रैकिंग और उत्पादन की सादगी के लिए, कंपनी का प्लेटफॉर्म अपने ग्राहकों को सीधे इसकी आपूर्ति से जोड़ता है।

ज़ेटा:ज़ेटा, क्रेडिट, डेबिट और प्रीपेड सामान प्रदान करने के लिए एक पूर्ण-स्टैक क्लाउड-आधारित नव-बैंकिंग प्लेटफ़ॉर्म, 2015 में भाविन तुराखिया और रामकी गद्दीपति द्वारा स्थापित किया गया था। जून 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में प्रवेश किया। इस फुल-स्टैक क्लाउड-आधारित नियो-बैंकिंग प्लेटफॉर्म की मदद से, बैंक और अन्य वित्तीय संस्थान अत्याधुनिक उपभोक्ता और व्यावसायिक फिनटेक समाधान प्रदान कर सकते हैं।

अर्बन :अभिराज भाल, राघव चंद्रा, और वरुण खेतान ने 2014 में गुरुग्राम में हाइपरलोकल सर्विसेज बिजनेस अर्बन कंपनी बनाई। यह फर्म उपकरण रखरखाव और कॉस्मेटिक सहित कई तरह की सेवाएं प्रदान करती है। यह जून 2021 में यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में शामिल हो गया। यह आम सेवाओं को परेशानी मुक्त बनाता है। इस के जरिए आप घर में सलून और मसाज समेत घर का नल ठीक करवाने, बिजली सही करवाने का काम करवा सकते हैं।

मोग्लिक्स :मोग्लिक्स विभिन्न औद्योगिक उपकरण प्रकारों के लिए एक ऑनलाइन बाज़ार है, जिसमें बिजली उपकरण, सुरक्षा उत्पाद और इलेक्ट्रिकल शामिल हैं। इसकी स्थापना 2015 में राहुल गोयल और संदीप गोयल ने की थी। यह हार्डवेयर, सुरक्षा उपकरण, प्रदान करता है। इसने सितंबर 2021 में यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में प्रवेश किया। यह ग्राहकों को सबसे अच्छा उपकरण प्रदान करता है।

ब्राउजरस्टैक :ब्राउजरस्टैक सॉफ्टवेयर और मोबाइल ऐप टेस्टिंग के लिए एक क्लाउड-आधारित प्लेटफॉर्म है जिसे 2011 में रितेश अरोड़ा और नकुल अग्रवाल द्वारा स्थापित किया गया था। सीरीज बी फंडरेजिंग राउंड में 200 मिलियन डॉलर जुटाने के बाद, यह जून 2021 में यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब का सदस्य ना। यह एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जो भारतीय ग्राहकों को कुशल परीक्षण प्रदान करता है।

ब्लैकबक :ब्लैकबक कंपनियों ट्रक मालिकों और फ्रेट ऑपरेटरों से जोड़ता है। इसकी स्थापना 2015 में राजेश याबाजी, चाणक्य हृदय और राम सुब्रमण्यम ने की थी। यह अगस्त 2021 में यूनिकॉर्न सूची में शामिल हुआ। बेंगलुरु में मुख्यालय के साथ यह अपनी वेबसाइट पर ट्रक सेवाओं का विज्ञापन करता है। यह मालिकों और ऑपरेटरों के बीच संचार की दूरी को समाप्त करता है।

ड्रूम :भारत और अन्य विकासशील देशों में नई और पुरानी कारों को खरीदने और बेचने के लिए ऑनलाइन मार्केटप्लेस ड्रूम की स्थापना 2014 में संदीप अग्रवाल ने की थी। यह अक्टूबर 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हो गया। ड्रूम तीन मूल्य निर्धारण प्रारूप-नीलामी, सर्वोत्तम ऑफ़र और निर्धारित मूल्य-साथ ही चार मार्केटप्लेस प्रारूप-बी2सी, सी2सी, सी2बी और बी2बी प्रदान करता है।

ऑफबिजनेस :2015 में आशीष महापात्रा, रुचि कालरा और भुवन गुप्ता द्वारा स्थापित ऑफबिजनेस, इसके बाद के कोफाउंडर्स नितिन जैन और वसंत श्रीधर के साथ, मुख्य रूप से एक बी 2 बी ईकामर्स प्लेटफॉर्म है। अप्रैल 2021 में यूनिकॉर्न स्टार्टअप बन गया। इसके अतिरिक्त, यह औद्योगिक और बुनियादी ढांचा क्षेत्रों में कच्चे माल के अधिग्रहण के लिए कार्यशील पूंजी ऋण के साथ छोटे और मध्यम आकार के व्यवसायों को प्रदान करता है।

भारतपे :अश्नीर ग्रोवर और शाश्वत नाकरानी ने 2018 में भारतपे की स्थापना की, जिसने भारत का पहला यूपीआई इंटरऑपरेबल क्यूआर कोड पेश किया। यह मार्च 2022 में यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में शामिल हो गया। यह सभी सक्रिय यूपीआई अनुप्रयोगों और अन्य भुगतान प्रणालियों के लिए एकल इंटरफ़ेस के रूप में कार्य करता है और मुख्य रूप से एक व्यापारी-केंद्रित भुगतान मंच है। भारत में इसने डिजिटल भुगतान में क्रांति ला दी।

माइंडटिकल :माइंडटिकल नामक एक बिक्री सक्षम मंच, जो पुणे में स्थित है, का उद्देश्य इष्टतम विक्रेता ज्ञान और कौशल सेट को समझकर, और उनके क्लाइंट इंटरैक्शन से वास्तविक दुनिया की प्रतिक्रिया जोड़कर फर्मों में बिक्री कार्य में सुधार करना है। कृष्णा देपुरा, दीपक दिवाकर और निशांत मुंगली ने इसे 2011 में बनाया था। जुलाई 2021 में, इसने भारत में यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स की बिरादरी में प्रवेश किया।

अपग्रेड :अपग्रेड, रोनी स्क्रूवाला द्वारा संचालित एक एड-टेक व्यवसाय, अगस्त 2021 में यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हुआ। यह कई विश्वविद्यालयों के साथ साझेदारी में उच्च शिक्षा पाठ्यक्रम प्रदान करता है और 2015 में स्क्रूवाला, मयंक कुमार, फाल्गुन कोमपल्ली और रविजोत चुग द्वारा स्थापित किया गया था। यह भारतीय छात्रों को दुनिया के शीर्ष विश्वविद्यालयों से ऑनलाइन डिग्री हासिल करने में मदद करता है।

कॉइनडीसीएक्स:कॉइनडीसीएक्स जिसे 2018 में सुमित गुप्ता और नीरज खंडेलवाल द्वारा स्थापित किया गया था, 2018 में यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल करने वाला भारत में पहला क्रिप्टोकुरेंसी एक्सचेंज बन गया। अगस्त 2021 में, क्रिप्टोकुरेंसी एक्सचेंज ने $ 90 मिलियन सीरीज़ सी फंडिंग राउंड पूरा किया और यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हुआ। कॉइनडीसीएक्स भारतीय लोगों को सुरक्षित रूप से क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने का अवसर देता है।

एरुडिटस :एरुडिटस, एक एडटेक बिजनेस स्कूल, जिसे चैतन्य कालीपटनापु और अश्विन दमेरा द्वारा 2010 में स्थापित किया गया था, एमआईटी, कोलंबिया और हार्वर्ड बिजनेस स्कूल, इनसीड, बर्कले जैसे प्रतिष्ठित बिजनेस स्कूलों के सहयोग से कार्यकारी शिक्षा कार्यक्रम प्रदान करता है। लंदन बिजनेस स्कूल। यह अगस्त 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हुआ। एरुडिटस भारतीय छात्रों के लिए अच्छा है।

ज़ेटवार्क :ज़ेटवार्क की स्थापना 2018 में अमृत आचार्य, श्रीनाथ रामकृष्णन और विशाल चौधरी द्वारा की गई थी। इसने सितंबर 2021 में यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में प्रवेश किया। यह विनिर्माण सेवा मंच है जो विशेष वस्तुओं, औद्योगिक मशीनों के लिए आपूर्तिकर्ताओं और विक्रेताओं के साथ विनिर्माण व्यवसायों को जोड़ती है। ज़ेटवार्क विनिर्माण व्यवसायों को मशीनों के लिए सर्वश्रेष्ठ स्पेयर पार्ट्स प्राप्त करने में मदद करता है।

एमपीएल :मोबाइल प्रीमियर लीग, जिसे एमपीएल के नाम से जाना जाता है, शुभ मल्होत्रा और साई श्रीनिवास किरण जी द्वारा 2018 में स्थापित एक एस्पोर्ट्स गेमिंग फर्म है। इसने जनवरी 2021 में यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में प्रवेश किया। यह कौशल-आधारित खेलों से विभिन्न प्रकार के गेमिंग विकल्प प्रदान करता है। रोमांचक पुरस्कार खेलने और जीतने के लिए दैनिक काल्पनिक खेलों की तरह।

अपना:निर्मित पारिख ने 2019 में अपना की स्थापना की, जो भारत में कर्मचारियों और प्रशिक्षित पेशेवरों के लिए नौकरी प्रदान करता है। इसके निर्माण के दो वर्षों के भीतर, 2021 में, यह प्रतिष्ठित यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हो गया। अपना कई भारतीयों को उनके सपनों की नौकरी पाने में मदद कर रहा है और भारत को अपनी रोजगार दर में सुधार करने में मदद कर रहा है।

वेदांतु :वेदांतु की स्थापना 2014 में वामसी कृष्णा, आनंद प्रकाश और पुलकित जैन ने की थी। वेदांतु एक भारतीय इन्टरैक्टिव़ ऑन्लाइन ट्यूइशन मंच है, जहां शिक्षक इंटरनेट पर छात्रों को ट्यूशन प्रदान करते हैं, इसने सितंबर 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में प्रवेश किया। वर्तमान में, हर महीने 35 मिलियन से अधिक छात्र इसके लाइव सत्रों में भाग लेते हैं।

लिशियस:लिशियस एक डी2सी फूड टेक कंपनी है जिसकी स्थापना 2015 में विवेक गुप्ता और अभय हंजुरा ने की थी, जो कोल्ड-चेन फूड डिलीवरी, विशेष रूप से मीट का कारोबार हैं। यह अगस्त 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हो गया। लिशियस के पास एक फार्म-टू-फोर्क बिजनेस मॉडल है ,लिशियस से लोगों को ताजा मांस मिलता है।

कॉइनस्विच कुबेर :कॉइनस्विच की स्थापना 2017 में आशीष सिंघल, गोविंद सोनी और विमल सागर तिवारी ने की थी। जून 2020 में, कॉइनस्विच ने भारतीय खुदरा निवेशकों के लिए क्रिप्टोक्यूरेंसी निवेश को आसान बनाने के लक्ष्य के साथ कॉइनस्विच कुबेर लॉन्च किया। इसने जुलाई 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में प्रवेश किया। यह भारतीयों को क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने में सक्षम बनाता है।

रिबेल फूड्स:रिबेल फूड्स मुंबई की एक फूड-टेक फर्म है जिसकी स्थापना 2011 में जयदीप बर्मन और कल्लोल बनर्जी ने की थी। यह मार्च 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में शामिल हुआ । रिबेल फूड्स ने अपना फुल-स्टैक प्लेटफॉर्म बनाया है, जिसे रेबेल ओएस के नाम से जाना जाता है, जिसमें 70 से अधिक स्थानों पर 450 से अधिक किचन फैले हुए हैं।

कार देखो
अमित जैन और अनुराग जैन ने 2007 में कारदेखो की स्थापना की। यह अगस्त 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में शामिल हो गया। यह कार खरीदने को आसान बनाने के लिए प्रमुख वाहन निर्माताओं, 4,000 से अधिक ऑटोमोबाइल डीलरों और विभिन्न वित्त संस्थानों के साथ साझेदारी करने का दावा करता है।

मोबीक्विक :फिनटेक व्यवसाय 2009 में बिपिन प्रीत सिंह और उपासना ताकू की पति-पत्नी की टीम द्वारा स्थापित किया गया था। यह जुलाई 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में शामिल हो गया। यह एक क्षैतिज फिनटेक प्लेटफॉर्म बनने के लिए पाठ्यक्रम बदलने से पहले एक डिजिटल वॉलेट के रूप में शुरू हुआ, जो क्रेडिट, बीमा और स्वर्ण ऋण सहित कई वित्तीय सेवाएं प्रदान करता है।

एको:वरुण दुआ और रुचि दीपक ने 2016 में एको की स्थापना की, जो व्यवसायों के साथ साझेदारी के माध्यम से श्रमिकों को मुआवजा और कार बीमा प्रदान करती है। यह अगस्त 2021 में यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हुआ। इस योजना के तहत, फर्म ने 18 से 45 वर्ष की आयु के ग्राहकों के लिए स्वास्थ्य बीमा योजना का भी अनावरण किया है।

गुड ग्लैम ग्रुप :गुड ग्लैम ग्रुप कंपनी की स्थापना 2015 में द गुड ग्लैम ग्रुप के संस्थापक और सीईओ दर्पण संघवी ने की थी। यह नवंबर 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हो गया। सामग्री-से-वाणिज्य दृष्टिकोण द्वारा संचालित “ब्रांड्स के डिजिटल हाउस” के रूप में अपनी स्थिति को मजबूत करने के लिए, माईग्लैम ने पिछले साल द गुड ग्लैम ग्रुप के निर्माण की घोषणा की।

क्योरफिट: क्योरफिट की स्थापना 2016 में मुकेश बंसल और अंकित नागोरी द्वारा की गई थी । यह ऑनलाइन-ऑफ़लाइन रणनीति के माध्यम से, शारीरिक फिटनेस और मानसिक फिटनेस प्रदान करती है। यह अगस्त 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हो गया। इसका मिशन भारत को शारीरिक और मानसिक रूप से फिट बनाना और स्वस्थ जीवन शैली को बढ़ावा देना है।

मेन्सा ब्रांड्स :अनंत नारायणन द्वारा मई 2021 में स्थापित, मेन्सा ब्रांड्स एक थ्रेसियो मॉडल-आधारित रोलअप ईकामर्स यूनिकॉर्न है। मेन्सा ब्रांड्स के मौजूदा पोर्टफोलियो में पुणे स्थित महिलाओं के परिधान ब्रांड कारागिरी, दिल्ली एनसीआर स्थित ज्वैलरी ब्रांड प्रियासी, पुरुषों के कैजुअल वियर ब्रांड हबबरहोल्म, मुंबई स्थित पुरुषों के कैजुअल वियर ब्रांड डेनिस लिंगो, महिला एथनिक वियर ब्रांड ईशिन, स्मार्ट एफएमसीडी स्टार्टअप हेलिया, शामिल हैं।

नोब्रोकर :नो ब्रोकर बेंगलुरु स्थित रियल एस्टेट प्लेटफॉर्म है जिसे 2014 में अखिल गुप्ता, अमित अग्रवाल और सौरभ गर्ग द्वारा स्थापित किया गया था। बिचौलियों के लिए किसी ब्रोकरेज शुल्क के बिना लोगों को सेवा प्रदान करते हैं । यह अगस्त 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हो गया। व्यवसाय नोब्रोकर फाइनेंशियल सर्विस वेबसाइट भी संचालित करता है, जो बंधक, और होम सर्विस, पैकर्स एंड मूवर्स और कानूनी कागजी कार्रवाई प्रदान करता है।

स्पिनी:स्पिनी दिल्ली-एनसीआर में स्थित एक ऑनलाइन इस्तेमाल किया जाने वाला ऑटोमोबाइल मार्केटप्लेस है जिसे 2015 में नीरज सिंह, मोहित गुप्ता और रामांशु महौर द्वारा स्थापित किया गया था। यह मार्च 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में शामिल हुआ। यह ग्राहकों को पहले इस्तेमाल किए गए ऑटो की संपूर्ण मूल्य श्रृंखला में एक प्रीमियम अनुभव प्रदान करने के लिए बेहतर तकनीक और प्रक्रियाओं को एकीकृत करने का दावा करता है।

अपस्टॉक्स :अपस्टॉक्स एक फिनटेक व्यवसाय है जिसका मुख्यालय मुंबई में है । रघु कुमार और रवि कुमार द्वारा स्थापित किया गया है जो व्यवसायों और व्यक्तिगत उपभोक्ताओं दोनों को विभिन्न प्रकार के अत्याधुनिक निवेश विकल्प प्रदान करता है। भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्लब में शामिल हुआ। अपनी बिल्कुल नई शून्य ब्रोकरेज अवधारणा के साथ, अपस्टॉक्स का उद्देश्य व्यापारियों और अंतिम उपभोक्ताओं को सशक्त बनाना है ।

स्लाइस :स्लाइस की स्थपना 2016 में राजन बजाज ने की थी। एक फिनटेक फर्म है जो मिलेनियल और जेनरेशन जेड ग्राहकों को भुगतान कार्ड और क्रेडिट कार्ड प्रदान करती है। इसकी यह अगस्त 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हुआ । एसबीएम बैंक के सहयोग से, फर्म इस बाजार में क्रेडिट कार्ड और भुगतान कार्ड प्रदान करती है।

प्रिस्टिन केयर:प्रिस्टिन केयर एक गुरुग्राम स्थित हेल्थटेक फर्म है जिसे 2018 में हरसिमरबीर सिंह, वैभव कपूर और गरिमा साहनी द्वारा स्थापित किया गया था। यह अगस्त 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हो गया। अत्याधुनिक सर्जिकल विधियों और पोस्टऑपरेटिव देखभाल के माध्यम से, प्रिस्टिन रोगियों को उत्कृष्ट सर्जिकल उपचार प्रदान करता है ।

मामाअर्थ :मामाअर्थ की स्थापना 2016 में ग़ज़ल और वरुण अलघ द्वारा की गई थी। इसकी शुरुआत शिशु देखभाल वस्तुओं की पेशकश से हुई। यह अगस्त 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हो गया। स्टार्टअप की उत्पाद लाइन में शरीर, चेहरे और बालों के लिए कई तरह के उत्पाद शामिल हैं। यह भारतीय लोगों के लिए रासायनिक मुक्त उत्पादों का उत्पादन करता है।

ग्लोबलबीज :ग्लोबलबीज की स्थापना दीपक खेतान और नितिन अग्रवाल द्वारा 2021 में इसकी स्थापना की थी। यह दिसंबर 2021 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हो गया। इसका रेवेन्यू रेट 1 मिलियन डॉलर से 20 मिलियन डॉलर है, ग्लोबलबीज ने फैशन ज्वैलरी, चश्मा, घरेलू देखभाल, पोषण और व्यक्तिगत देखभाल जैसे उद्योगों में व्यवसायों का एक विविध पोर्टफोलियो बनाया है।

स्टार्टअप जिन्होंने वर्ष 2022 में प्रवेश किया

गेम्स24×7 :गेम्स24×7 एक भारतीय-आधारित ऑनलाइन गेमिंग फर्म है, जिसमें स्किल गेम्स (रम्मीसर्कल और माई11 सर्कल) और कैजुअल गेम्स शामिल हैं। इसकी स्थापना 2006 में अर्थशास्त्री भाविन पंड्या और त्रिविक्रमण थम्पी द्वारा की गई थी, जो न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय (अल्टीमेट गेम्स) के दोनों स्नातक हैं।
गेम्स24×7 ने $2.5 बिलियन के मूल्यांकन पर $75 मिलियन जुटाए, जो 99वां भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप बन गया।

ऑक्सिज़ो:ऑक्सीजो की स्थापना 2016 में आशीष महापात्रा और रुचि कालरा ने की थी। यह अगस्त 2022 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हो गया। बी2बी कॉमर्स यूनिकॉर्न ऑफ बिजनेस की वित्तीय शाखा, यह एक उधार देने वाला मंच है जो विनिर्माण और अनुबंध क्षेत्रों में एसएमई के लिए नई सामग्री खरीदने के लिए नकदी प्रवाह और वित्तपोषण प्रदान करता है।

अमगी :अमगी की स्थापना 2008 में बस्कर सुब्रमण्यम, श्रीनिवासन केए, और श्रीविद्या श्रीनिवासन द्वारा,किया गया। यह अगस्त 2022 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हो गया। अमगी केबल, ओटीटी और मुफ्त विज्ञापन-समर्थित स्ट्रीमिंग टीवी प्लेटफॉर्म पर लाइव, लीनियर और ऑन-डिमांड चैनलों के लिए निर्माण, वितरण और मुद्रीकरण टूल प्रदान करता है।

हसुरा :हसुरा की स्थापना 2018 में गोपाल और राजोशी घोष द्वारा किया गया । यह मई 2022 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हुआ । कंपनी की तकनीक स्वचालित रूप से रीयल-टाइम ग्राफ़क्यूएल एपीआई बनाती है, जिससे ग्राहकों को सुरक्षित एपीआई के माध्यम से अपने डेटा तक त्वरित पहुंच मिलती है। भारतीय स्टार्टअप ने लाइट्सपीड वेंचर पार्टनर्स से वर्टेक्स वेंचर्स और नेक्सस वेंचर्स के साथ अपने सीरीज बी राउंड में भागीदारी में $25 मिलियन जुटाए थे।

लिवस्पेस:लिवस्पेस अनुज श्रीवास्तव और रमाकांत शर्मा द्वारा 2014 में स्थापित किया गया था। लिवस्पेस एक क्यूरेटेड मार्केटप्लेस है जो एंड-टू-एंड होम डिज़ाइन अनुभव प्रदान करता है। यह अप्रैल 2022 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हुआ स्टार्टअप का ऑनलाइन मार्केटप्लेस सॉफ्टवेयर टूल भी प्रदान करता है जो डिजाइनरों और घर के मालिकों को इंटीरियर डिजाइन करने में मदद कर सकता है।

डीलशेयर
सितंबर 2018 में विनीत राव, सौरज्येंदु मेद्दा, शंकर बोरा और रजत शिखर द्वारा स्थापित, डीलशेयर एक सोशल ईकॉमर्स मार्केटप्लेस है।2022 की शुरुआत में, बेंगलुरु स्थित सोशल कॉमर्स स्टार्टअप ने टाइगर ग्लोबल और अल्फा वेव ग्लोबल के नेतृत्व में निवेशकों से 165 मिलियन डॉलर जुटाए और 2022 का पांचवां भारतीय यूनिकॉर्न बन गया।

डार्विनबॉक्स :चैतन्य पेड्डी, जयंत पलेटी और रोहित चेन्नामनेनी द्वारा 2015 में स्थापित, डार्विनबॉक्स एक क्लाउड-आधारित एचआरटेक स्टार्टअप है जो भर्ती, ऑनबोर्डिंग, मुख्य लेनदेन पेरोल, यात्रा और लोगों के विश्लेषण में कंपनियों की एचआर जरूरतों को पूरा करता है। यह जून 2022 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हुआ। डार्विनबॉक्स ने टेक्नोलॉजी क्रॉसओवर वेंचर्स के नेतृत्व में $72 मिलियन जुटाए।

लीड :सुमीत मेहता और स्मिता देवराह द्वारा 2012 में स्थापित, लीड मुंबई स्थित एक एडटेक स्टार्टअप है, जो प्रौद्योगिकी का उपयोग करके बेहतर स्कूली शिक्षा प्रदान करता है । यह अगस्त 2022 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हुआ। यह 2022–2023 स्कूल वर्ष की शुरुआत तक 2 मिलियन से अधिक बच्चों की सेवा करेगी।

फिजिक्सवाला:अलख पांडे और प्रतीक माहेश्वरी ने प्रतियोगिता की तैयारी के लिए फिजिक्स-केंद्रित यूट्यूब चैनल के रूप में 2016 में फिजिक्सवाला लॉन्च किया। 2020 में, फिजिक्सवाला ने एक पूर्ण एडटेक प्लेटफॉर्म बन गया । व्यापार ने वेस्टब्रिज और जीएसवी वेंचर्स से 1.1 अरब डॉलर के मूल्यांकन पर सीरीज ए निवेश में 100 मिलियन डॉलर जुटाए, जिससे यह भारत का 101 वां यूनिकॉर्न बन गया।

फ्रैक्टल ;फ्रैक्टल एनालिटिक्स की स्थापना 2000 में आईआईएम अहमदाबाद के पूर्व छात्र श्रीकांत वेलामकन्नी और प्रणय अग्रवाल सहित पांच सदस्यीय टीम ने निर्मल पालपर्थी, प्रदीप सूर्यनारायण और रामकृष्ण रेड्डी के साथ की थी। यह अगस्त 2022 में भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप सूची में शामिल हुआ। फ्रैक्टल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और एडवांस्ड एनालिटिक्स सॉल्यूशंस मुहैया कराता है।

भारत में लगभग 50,000 स्टार्टअप हैं और उनमें से केवल 103 यूनिकॉर्न स्ट्रैटअप हैं जो की काबिले तारिफ है ।

व्यवसाय से संबंधित नवीनतम लेख पाने के लिए हमारे साथ जुड़ें और हमारे पेज

https://linktr.ee/wext.in   को शेयर और फॉलो करना न भूलें ।

 

 

Top Unicorn Startups of India

Previous article

How to grow your small business?

Next article

You may also like

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
trackback
4 months ago

[…] इंडिया के टॉप यूनिकॉर्न स्टार्टअप जिनसे आप जानकर गर्व महसूर करेंगे https://www.wext.in/unicorn-startups-of-india-in-hindi/ […]

More in Business